CareUp Plus Healthy life Packages
Women Care
महिलाओं से संबंधित लैब टेस्ट

PCOD यानी पॉलिसिस्टिक ओवरी डिजीज महिलाओं में होनेवाली आम समस्या बन गई है। इस बीमारी में हॉर्मोन्स के कारण ओवरी में छोटी-छोटी सिस्ट यानी गांठ हो जाती हैं। इन सिस्ट के कारण महिलाओं में बड़े स्तर पर हॉर्मोनल बदलाव होने लगते हैं। क्योंकि ये सिस्ट पीरियड्स और प्रेग्नेंसी दोनों को डिस्टर्ब करती हैं.

पीसीओडी की समस्या महिलाओं में काफी तेजी से बढ़ रही है। नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ ऐंड रिसर्च के अनुसार हमारे देश में करीब 10 प्रतिशत महिला आबादी पीसीओडी की समस्या से जूझ रही है। इस समस्या के कारण बॉडी में हॉर्मोनल डिसबैलंस हो जाता है। इससे चेहरे पर रोए और शरीर के दूसरे अंगों पर घने बाल उगने लगते हैं। ये इस समस्या के सामान्य लक्षण हैं।

Test Cover in PCOD (POLYCYSTIC OVARIAN DISEASE)

  • GLUCOSE FASTING (F)

  • TESTOSTERONE TOTAL

  • INSULIN FASTING

  • FSH; FOLLICLE STIMULATING HORMONE

  • LH; LUTEINIZING HORMONE

  • TSH (THYROID STIMULATING HORMONE) ULTRASENSITIVE

  • HbA1C

  • AVG BLOOD SUGAR

  • CBC

  • DHEA-S

Arthritis Test
बुढ़ापे और जोड़ों के दर्द से संबंधित लैब टेस्ट

Arthritis / आर्थ्राइटिस) के रोगी के एक या कई जोड़ों में दर्द, अकड़न या सूजन आ जाती है। इस रोग में जोड़ों में गांठें बन जाती हैं और शूल चुभने जैसी पीड़ा होती है, इसलिए इस रोग को गठिया भी कहते हैं। संधिशोथ सौ से भी अधिक प्रकार के होते हैं।

पुरानी चोट से ही नहीं फंगस से भी होता है गठिया,

गठिया जोड़ों की सूजन व दर्द से जुड़ा रोग है। यह रोग आमतौर पर ओस्टियो आर्थराइटिस ( Osteoarthritis ) और रुमेटॉयड आर्थराइटिस ( Rheumatoid arthritis ) के रूप में होता है। बढ़ती उम्र के साथ रोग की आशंका भी बढ़ती है। पुरुषों की तुलना में महिलाएं इस रोग की चपेट में ज्यादा आती हैं। भारत में गठिया लगभग 15 प्रतिशत लोगों में है। इससे लगभग दो करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हैं।

Arthritis Panel

  • ANTI NUCLEAR ANTIBODY / FACTOR (ANA/ANF), EIA

  • ANTI-CCP HS (HIGH SENSITIVE)

  • RHEMATOID FACTOR (RA) SERUM

  • ANTI STRAPTOLYSIN-O (ASO) TITRE

  • URIC ACID SERUM

  • C-REACTIVE PROTINE; CRP

  • ERYTHROCYTE SEDIMENTATION RATE (ESR)